एक नहीं, अनेक तरीकों से किसी भी मौके पर पहनें साड़ी

त्योहार या मौका  कोई भी हो, कोशिश हमारी रहती है कि साड़ी पहनें। साड़ी एक ऐसा परिधान है जो इस देश को एक सूत्र में बाँधती है। भारत के हर राज्य में अलग – अलग तरीके से साड़ी पहनी जाती है और इसकी वैरायटी का तो कुछ कहना ही नहीं है। साड़ी की विविधता को देखकर राज्य की विविधता के बारे में जानना आसान हो जाता है। साड़ी के साथ सही ब्लाउज का चयन आपके लुक को पूरा करता है। साड़ी आपको पारम्परिक भी बना सकती है और अल्ट्रा मॉडर्न भी। यही वजह है कि हर बड़ा डिजाइनर या फिर छोटे से छोटा व्यवसायी साड़ी अपनाता है। इलाके की दुकान से लेकर शॉपिंग मॉल और रैम्प पर, हर जगह साडी का राज है मगर साड़ी पहनने के तरीके आपका लुक सुन्दर बनाते हैं। आम तौर पर हम उल्टे पल्ले की साड़ी पहनते हैं मगर साड़ी पहनने के और भी कई तरीके हैं जो आपको न सिर्फ खूबसूरत बनायेंगे बल्कि आप अलग भी दिखेंगे। ऐसे ही कुछ आसान और सदाबहार तरीकों को आइए, जानते हैं –

बंगाली स्टाइल

बंगाली स्‍टाइल की साड़ी ट्रेडिशनल लुक देने के मामले में सबसे आगे है। यह न केवल आपको अभिजात्यतापूर्ण बनाती है बल्कि इसे पहनना और सम्भालना भी खास मुश्किल नहीं है। इस लुक के लिए हैंडलूम या हल्की कॉटन की बॉर्डर वाली साड़ियां अच्‍छी रहती हैं। दुर्गापूजा और पोएला बैशाख पर इस तरह साड़ी पहनकर देखें। इसके साथ फ्रिल वाला या पूरी बाँह वाला ब्लाउज जबरदस्त लगता है।

लहंगा स्टाइल

इस स्‍टाइल में आप किसी भी तरह की साड़ी को लहंगे जैसा लुक दे सकती हैं। प्‍लेट्स की मददसे साड़ी को कुछ इस तरह बांधते हैं कि यह लहंगे जैसा लुक देती है। यह आजकल काफी चलन में भी है। इस तरह से आम तौर पर राजस्थान और गुजरात में साड़ी पहनी जाती है। आप किसी पार्टी या शादी में इसे पहन सकती हैं।
जलपरी स्टाइल


दुबली हैं और आपका फिगर परफेक्ट है तो यह तरीका आपके लिए बेस्ट है। यह साड़ी लो वेस्ट से पहनी जाती हैऔर स्कर्ट जैसा लुक देती है। इसे पहनने के बाद फिगर स्लिम लगता है। आमतौर पर यह स्टाइल उनसाड़ियों पर अच्छा लगता है जिनमें पल्लू पर अधिक काम होता है।

तितली स्टाइल

दीपिका या प्रियंका की तरह दिखना चाहती हैं, तो इस स्‍टाइल में साड़ी में पहन सकती हैं।इसमें पल्लू काफी पतला रखा जाता है, जिससे फिगर और निखरकर आती है। यह स्‍टाइलशिफॉन, नेट जैसी साड़ियों पर खूब अच्‍छी लगत है। किसी कॉकटेल पार्टी में दोस्तों के बीच पहनिए, अच्छी लगेंगी। इसे नीवी स्टाइल साड़ी भी कहते हैं।
राजरानी स्टाइल


हेवी सिल्क या भारी नेट की साड़ियों के लिए राजरानी स्टाइल बेहतरीन विकल्प है। यह गुजराती स्टाइल का ही एक रूप है। इस पैटर्न से साड़ी पहनते वक्त पल्लू दाईं ओर से लिया जाता है और सामने से वी आकार में ले जाकर पिनअप कर दें। अपनी साड़ी का खूबसूरत आँचल दिखाना चाहती हैं, तो यह तरीका सही है।

मुमताज स्टाइल


तीज की पार्टी में जाते वक्त रेट्रो लुक के लिए मुमताज स्टाइल से बेहतर विकल्प क्या हो सकता है।आपका खूबसूरत फिगर है तो आपके लिए इस स्टाइल से बेहतर कोई विकल्प नहीं है। कॉकटेल, रिसेप्शन या कॉलेज में ऐसे साड़ी पहनें।
सीधा पल्ला


इस तरह से गुजरात, उत्तर प्रदेश, बिहार और कभी – कभी राजस्थान में साड़ी पहनी जाती है। किसी धार्मिक अनुष्ठान में इस तरह से साड़ी पहनें, पारम्परिक लुक दिखेगा। अगर साड़ी का भारी आँचल दिखाना चाहती हैं तो उसके लिए भी यह तरीका परफेक्ट है।
उल्टा पल्ला


यह आम तरीका है और इस तरीके से आप कहीं भी, कभी भी साड़ी पहन सकती हैं। पल्लू और आँचल पिनअप करें तो यह आपको प्रोफेशनल व क़ॉरपोरेट लुक देगा। आम तौर पर महिला नेत्रियाँ भी इसे अपनाती हैं और आप भी हैंडलूम और जवाहर जैकेट या पूरा कवर ब्लाउज पहनकर कॉटन या हैंडलूम के साथ सिल्क से ये यह लुक पा सकती हैं। दक्षिण भारत में काँजीवरम इसी तरीके से पहनी जाती है और असम की मेखला चादर या उत्तर – पूर्वी राज्यों में यह लुक आपको दिखेगा। यह सदाबहार तरीका है।

मराठी स्टाइल

इसे नौआरी स्टाइल साड़ी भी कहते हैं। यह महाराष्ट्र में पहनी जाती है और नीचे से धोती की तरह बाँधी जाती है जिससे आपके पैरोंं की गतिविधि बाधित नहीं होती। आम साड़ियों के पैटर्न के मुकाबले यह स्टाइल काफी अलग है। इसके लिए 6 हाथ के बजाय 9 हाथ की लंबाई वाली साड़ियों का इस्तेमाल किया जाता है और नीचे पेटीकोट नहीं पहनते हैं।
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × four =