गलती हो तो कह दीजिए…आई एम सॉरी

प्यार में तकरार आम बात है। कभी यह नोंक-झोंक आसानी से टल से जाती है तो कभी साथी थोड़ा ज्यादा नाराज हो जाता है। ऐसे में सामने वाले को समझदारी के साथ बात को संभालने की जरूरत होती है और गलती होने पर माफी माँग लेने में कोई बुराई नहीं है। अगर आप नहीं जानते कि अपने साथी से माफी कैसे माँगी जाए तो जरा यहाँ ध्यान दें –
झगड़े की कोई एक वजह नहीं होती यह किसी भी बात पर हो सकता है। ऐसे में अपने पार्टनर से अपनी तरफ से उस बात को फिर ना छेड़ने की जिम्मेदारी लें और सॉरी कहें। इससे बात भी संभल जाएगी और साथी की नाराजगी भी खत्म हो जाएगी।
अगर आप सोच रहे हों कि सभी बातें करने के बाद आखिर में माफी मांगे तो ऐसा ना करें। जितनी जल्दी और सीधे तौर पर पार्टनर से माफी मांगेगे उतना ही बेहतर होगा। ऐसा करने से दोनों के बीच का विवाद और खराब होने के बजाय सही वक्त पर सुलझ सकेगा।
सिर्फ सॉरी बोलने के बजाय जरूरी है पार्टनर से बात की जाए ताकि झगड़ा पूरी तरह से खत्म हो सके। इससे सबसे बड़ा फायदा होगा कि आप दोनों को एक-दूसरे को बेहतर तरीके से समझ सकेंगे और आगे से ऐसे झगड़े होने के खतरे कम हो जाएंगे।
इसका मतलब है जब तक आप सच में गलती महसूस ना करें तब तक पार्टनर से माफी न माँगें। अगर आप ऐसा करेंगे तो जल्द ही फिर झगड़ा होने का खतरा बना रहेगा। इसी के साथ ही आपके साथी को ये सॉरी बहुत बचकाना हरकत लगेगी, जिससे आपका इंप्रेशन और खराब होगा।
आपको जब भी लगे कि हर बार झगड़ा और माफी माँगने के बावजूद कहीं कुछ ना कुछ गलत हो रहा है तो वक्त निकाल कर बात करें। इससे आप दोनों के बीच छोटी-छोटी बातों पर होने वाले झगड़े खत्म होंगे।

आप कैसे मनाते हैं अपने रूठे दोस्तों, परिजनों और साथियों को, हमें बताएँ
(साभार)

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 + six =