ठेला चलाने वाले की प्रोफेसर बिटिया बनी लखपति

नयी दिल्ली : कौन बनेगा करोड़पति में लोग अपने सपने साकार करने आते हैं। शो के तीसरे दिन भी ऐसा ही कुछ देखने को मिला, जब सीट पर पहुंची पंजाब के अमृतसर की किरन, जो कि पेशे से प्रोफेसर है।
केबीसी के तीसरे एपिसोड में सोमेश सिंह के बाद हॉट सीट पर पहुंची पंजाब की किरन ने बताया कि उनके पिता हाथ का ठेला चलाकर पेड़-पौधे बेचने का काम करते हैं। इससे पहले वो हैंडबैंग बनाने का काम करते थे।
दरअसल, हॉट सीट पर बैठने के बाद किरन ने बताया कि उनके पिता रेडीमेड हैंडबैग बनाने का काम करते थे। लेकिन उनकी नौकरी चली गई। एक महीने तर उन्हें काम नहीं मिला। उस समय किरन काफी छोटी थीं। उनके तीन बहनें और एक भाई है। इस दौरान एक समय ऐसा भी आया जब हमारे पास खाने को भी नहीं था।
ये सब बताते हुए किरन की आंखों में पानी था। अपने पिता के संघर्ष की कहानी बताते हुए उन्होंने बताया कि सर्दी, गर्मी और बरसात में भी राम अपना काम नहीं छोड़ते थे। एक बार तेज बुखार होने के बावजूद वो ठेला चलाकार पेड़-पौधे बेचने गए।
किरन के पिता राज अजोर का कहना था कि मुझे पता था कि अगर मैं काम पर नहीं जाऊंगा तो मेरे परिवार को खाना नहीं मिलेगा। आज उनके चारों बच्चे अच्छी जॉब कर रहे हैं। राम अजोर चाहते थे कि उनका एक बच्चा टीचर बने, जिसे किरन ने पूरा किया है।
फिलहाल किरन पीएचडी कर रही हैं और साथ ही कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर नियुक्त हैं। साथ ही वो नेशनल लेवल की जिमनास्ट भी रह चुकी हैं। इसका फायदा उन्हें पढ़ाई के समय मिला है। किरन को इस स्थान पर पहुंचने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा है। उनकी ये कहानी सुनकर आपकी आंखें भी नम हो जाएंगी। बता दें कि किरन शो से 1.25 लाख रुपये लेकर गई हैं। उन्होंने अपनी सभी लाइफलाइन का इस्तेमाल कर लिया था।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five − two =