भारत की धरोहर : द्रोपदी और बुद्ध की नगरी काम्पिल्य

अभय प्रकाश जैन

काम्पिल्य एक पौराणिक नगर है जो महाभारत के समय पांचाल जनपद की राजधानी थी जिसके राजा द्रुपद थे। इसके नाम का सर्वप्रथम उल्लेख यजुर्वेदकी तैत्तरीय संहिता में ‘कंपिला’ रूप में मिलता है। बहुत संभव है, पुराणों में वर्णित पंचाल नरेश भृम्यश्व के पुत्र कपिल या कांपिल्य के नाम पर ही इस नगरी का नामकरण हुआ हो। महाभारत काल से पहले पंचाल जनपद गंगा के दोनों ओर विस्तृत था। उत्तर-पंचाल की राजधानी अहिच्छत्र और दक्षिण पंचाल की कांपिल्य थी। दक्षिण पंचाल के सर्वप्रथम राजा अजमीढ़ का पुराणों में उल्लेख है। इसी वंश में प्रसिद्ध राजा नीप और ब्रह्मदत्त हुए थे। महाभारत के समय द्रोणाचार्य ने पंचाल नरेश द्रुपद को पराजित कर उससे उत्तर-पंचाल का प्रदेश छीन लिया था। इस प्रसंग के वर्णन में महाभारत में कांपिल्य को दक्षिण पंचाल की राजधानी बताया गया है। उस समय दक्षिण पंचाल का विस्तार गंगा के दक्षिण तट से चंबल नदी तक था। ब्रह्मदत्त जातक में भी दक्षिण पंचाल का नाम कंपिलरट्ठ या कांपिल्य राष्ट्र है। बौद्ध साहित्य में कांपिल्य का बुद्ध के जीवनचरित के संबंध में वर्णन मिलता है। किंवदंति के अनुसार इसी स्थान पर बुद्ध ने कुछ आश्चर्यजनक कार्य किए थे, जैसे स्वर्ग में जाकर अपनी माता को उपदेश देने के पश्चात् वह इसी स्थान पर उतरे थे। चीनी यात्री युवान च्वांग ने भी सातवीं सदी ई. में इस नगर को अपनी यात्रा के प्रसंग में देखा था।

वर्तमान कंपिला में एक अति प्राचीन ढूह आज भी राजा द्रुपद का कोट कहलाता है एवं बूढ़ी गंगा के तट पर द्रौपदीकुंड है जिससे, महाभारत की कथा के अनुसार, द्रौपदी और धृष्टद्युम्न का जन्म हुआ था। कुंड से बड़े परिमाण की, संभवत: मौर्यकालीन, ईंटें निकली हैं। कंपिला के मंदिरों से अनेक प्राचीन मूर्तियाँ प्राप्त हुई हैं। कंपिला बौद्धधर्म के समान जैनधर्म का भी कुछ दिनों तक केंद्र रह चुकी है, जैसा यहाँ से प्राप्त तीर्थंकरों की अनेक प्रतिमाओं तथा जैन अभिलेखों से सूचित होता है। कांपिल्य के ‘कंपिलनगर’, ‘कंपिल्लनगर’ और ‘कंपिला’ नाम साहित्य में उपलब्ध हैं। इसका अपभ्रंश रूप कांपिल भी मिलता है। कांपिल्य नगरी प्राचीन काल में काशी, उज्जयिनी आदि की भाँति ही प्रसिद्ध थी और प्राचीन साहित्य में इसे अनेक कथाओं की घटनास्थली बनाया गया है, जैसे महाभारत, शांतिपर्व (१३९, २) में राजा ब्रह्मदत्त और पूजनी चिड़िया की कथा को कांपिल्य में ही घटित कहा गया है।

पत्रकार अनुभूति विश्नोई के ट्विटर वॉल से साभार…

प्राचीन किंवदंती के अनुसार प्रसिद्ध भारतीय ज्योतिषाचार्य बराहमिहिर का जन्म कांपिल्य में ही हुआ था। पांचाल प्राचीनकाल से ही प्रसिद्ध रहा है। यह इन्द्रप्रस्थ से तीस योजन दूरी पर कुरुक्षेत्र से पश्चिम और उत्तर में अवस्थित था। पांचाल जनपद तीन भागों में विभक्त था

(१) पूर्व पांचाल,

(२) उत्तर पांचाल, और

(३) दक्षिण पांचाल।

महाभारत के अनुसार दक्षिण और उत्तर पांचाल के बीच गंगा नदी की सीमा थी। वर्तमान एटा और फरुखाबाद जिले दक्षिण पांचाल में थे। वर्णनों से ज्ञात होता है कि उत्तर पांचाल के पूर्व और अपर दो भाग थे। दोनों को रामगंगा विभक्त करती थी। अहिक्षत्र उत्तरी पांचाल तथा काम्पिल्य दक्षिणी पांचाल की राजधानी रही है। काम्पिल्य नगर जैन, शैव, बौद्ध ,वैष्णव धर्मों की दृष्टि से महत्वपूर्ण है। पांचाल जनपद का भी महत्त्व कम नहीं है। भगवान ऋषभदेव से लेकर अनेकानेक तीर्थंकरों का बिहार यहाँ हुआ।

महर्षि वेद व्यास ने महाभारत के आदिपर्व में लिखा है कि पांचाल की राजधानी काम्पिल्य थी, जहाँ महाराज द्रुपद की पुत्री द्रोपदी का इतिहास प्रसिद्ध स्वयंबर हुआ था। धारावाहिक ‘‘महाभारत’’ प्रत्येक रविवार को सभी दूरदर्शन पर देख चुके हैं तथा काम्पिल्य का नाम भी सुन चुके हैं। काम्पिल्य के इतिहास, शौर्य और पुरातात्विक सामग्री और साहित्य पर दृष्टिपात करते हुये विवेचन करना यहाँ लेखक का अभिप्रेत है। उत्तरप्रदेश के जनपद फरुखाबाद की तहसील कायमगंज से १० कि.मी.दूर गंगा नदी के तट पर काम्पिल्य नगरी बसी है। कम्पिल या काम्पिल्यापुरी, भारत के अतिप्राचीन सोलह नगरों में से एक थी। वेदों में भी इसका वर्णन है।

माध्यान्दिन संहिता [३] में काम्पिल्य शब्द अम्बा, अम्बालिका के साथ आया है

अम्बे आम्बिके अम्बालिके न मानयति कश्वन।
स सत्यश्यक: सुभद्रिकां काम्पीलवासिनीम्।।

शतपथ ब्राह्मण के अनुसार पांचाल का प्राचीन नाम क्रिवि था तथा परिचक्रा एवं कम्पील रुप में भी वर्णन मिलाता है।  पांचाल राजाओं में वैत्य, दुर्मुख, शोभ और प्रवाहण जैवालिका का नाम मिलता है।काम्पिल्य का नाम तैत्तरीय: संहिता (७ /४/१९११), मैत्रायिणी संहिता (३/१०/२०) काठक संहिता आश्व मिधिक (४/८),माध्यान्दिन संहिता (३३/१८), तैत्तरीय ब्राहण (३/९/६) शतपथ ब्राह्मण (१३ / २ / ८३) आदि में देखने को मिलता है। उपनिषद् साहित्य में वृहदारण्यक उपनिषद (६/१/१) छांदीग्य उपनिषद् ५/३११) तधा सारसायन श्रोतसूत्र (१२/१३/६) में भी वर्णन मिलता है। महाकवि वाल्मीक ने (स—२३) ब्रह्मदत्त के प्रसंग में काम्पिल्य का वर्णन किया है। महाभारत (अध्याय ९८, पृष्ठ ८१/८२) के पर्व—१२८ में भी वर्णन है। काम्पिल नगरी अति सुन्दर थी तथा गंगा किराने स्थित थी।

माकंदि नाम गंगाया स्तीरे जनपदं युतं।
सोउध्यावसद दीनमना काम्पिल्यच्च पुरोत्तमम्।।

अष्टध्यायी पर वामन जयादित्य ने कशिका वृत्ति लिखी। इस वृत्ति से स्पष्ट है कि काम्पिल्य तथ संकाश्य पास—पास बसे थे या एक ही बड़े शहर में थे। चीनी त्रिपिटक साहित्य में लिखा है कि भगवान बुद्ध ने काम्पिल्य और संकाश्य में विहार किया। तेशोत्रिपिटिक (पृष्ठ २२/७ भाग ४२) में इसका उल्लेख है। इस तथ्य की पुष्टि प्रो—हाजिमेनाकामुरा ने अपने शोध ग्रंथ में की है।[५] संकाश्य बौद्धमत का तीर्थस्थल है। आज भी सैकड़ों तीर्थयात्री देश—विदेश से यहाँ आते हैं। आगरा—फरूखाबाद, ब्रांच रेवले लाईन पर मखना रेल्वे स्टेशन से ८ कि.मी. दूर सराय अगहत गाँव के पास संकाश्य के खंडहर, भग्नावशेष आज भी देखने को मिलते हैं। बुद्ध विहार के प्रमाण एवं साक्ष्यों को देखते हुये भारत एवं उ.प्र. शासन ने काम्पिल्य एवं संकाश्य दोनों ही स्थानों को अपने संरक्षण में ले लिया है।

महासती द्रोपदी का जन्म एवं स्वयंवर यहीं हुआ था, जिसकी याद यहाँ स्थित द्रोपदी—कुण्ड आज भी हमें दिला रहा है। महान् तपस्वी कपिल मुनि का आश्रम भी यहीं था तथा मुनि श्री ने तपस्या भी यहीं की थी। कपिल मुनि आश्रम और उसके प्राचीन भग्नावशेष इसके साक्ष्य है। यहाँ अतिप्राचीन दो जैन मंदिर हैं तथा कुछ जैन मूर्तियों सहित खंडहर भी है द्रोपदी कुण्ड पर हर वर्ष मेला लगता है। श्रीलंका से लाये शिव लिंग की स्थापना शत्रुध्न ने यहाँ की थी, जो वत्र्तमान में रामेश्वरम् मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है। मंदिर दक्षिण शैली का है।

प्राय: सभी पुराणों में पांचाल तथा काम्पिल्य दोनों का ही उल्लेख है। श्रीमद् भागवत् में लिखा है कि राजा भृम्यश्य के पुत्र का नाम काम्पिल्य थ। उसी के नाम पर नगर का नाम काम्पिल्य रखा गया था। कथित काम्पिल्य राजकुमार के पांचालादिक पाँच पुत्र थे जिन्होंने इस प्रदेश को विजय किया तथा उसी के नाम से यह प्रदेश पांचाल कहलाया कर्निंधम का मत है कि क्रिवि, तुरुव, सम केसिन, शृंतयस, और इक्ष्वाकु इन पांच क्षत्रियों के कारण यह देश पांचाल कहलाया।

बौद्ध साहित्य के अनुसंधान से ज्ञात होता है कि भगवान बुद्ध के जन्म से पहले सोलह महा जनपद विद्यमान थे मगध, कौशल, वत्स अवंति, काशी, अंग चेदि, कुरु, पांचाल, मत्स्य शूरसेन, अश्यमक, गान्धार, काम्बोज, वैन्जैन तथा मल्ल। पांचाल दो भागों में विभक्त हो चुका था। उत्तर पांचाल तथा दक्षिण पांचाल उत्तर पांचाल की राजधानी, अहिच्छत्रपुर (जैन तीर्थ) तथा दक्षिण पांचाल की राजधानी, काम्पिल्य थी। वृहज्जातक की महधीर टीका में कम्पिल्ला का सन्निवेश काययित्थिक बताया है। काययित्थिक आज वैथिया नाम के प्रसिद्ध है जो कम्पिला से २०/२१ मील दूर है। वाराणसी उस समय व्यापार का बड़ा केन्द्र था। कम्बोज, काम्पिल्य, कौशल, कुरुक्षेत्र कुरु कुशीनारा, कौशम्बी, मिथिला पांचाल, सिन्ध, उज्जैन, विदेह, आदि के साथ बनारस का व्यापारिक सम्बन्ध था।

जैन साहित्य में काम्पिल्य का वर्णन बड़ा मनोहारी एवं प्राचीन है। जैन धर्म के तेरहवें तीर्थंकर श्री विमलनाथ स्वामी के चार कल्याण गर्भ, जन्म, तप एवं ज्ञान काम्पिल्य में ही हुये।

विमलनाथ पुराण में इसका नाम कम्पिला लिखा है

तंत्रैय कंम्पिला नाम्ना विद्यते परमापुरी।
दोषमुक्ता गुणैक्र्युता धनाढ्या स्वर्ण सगृहा।।

काम्पिल्य में इक्वाकुवंश के कृत वर्मा नामक शासक थे उनकी पत्नी का नाम जय श्यामा था। तेरहवें तीर्थंकर विमलनाथ का जन्म उन्हीं के गर्भ से हुआ था। ई. पू. चौथी शती की विमलनाथ की प्रतिमा गंगा नदी से निकली थी जो मूल वेदी पर विराजमान है। अंतिम तीर्थंकर भ.महावीर ने संसार से विरक्त होकर कठोर साधना की तथा जीवों के उद्धार के लिये उद्बोधन किया। इस काम्पिल्य नगरी में भगवान महावीर का पदार्पण भी हुआ था उनका समोशरण भी आया था। तेईसवें तीर्थंकर भगवान पाश्र्वनाथ का बिहार भी इस नगरी में हुआ था।

यहाँ प्रति वर्ष दिगम्बर जैन मेला एवं रथयात्रा महोत्सव प्रथम चैत्रवदी अमावस्या से चैत्र सुदी चौथ तक तथा दूसरा महोत्सव क्वांर वदी २ से वदी ४ तक सदियोें से हो रहे हैं। वाराह मिहिर (५०५ ई.) जैन मतावलम्बी ज्योतिष शास्त्री थे, इन्होंने अपने ग्रंथ वृहज्जातक में लिख है——

‘‘आदित्य दास तनय स्त दवाप्त बोध: काम्पिल्यके सवितृलब्ध्वरप्रसाद आवन्ति को मुनिमलन्य वलोक्य सम्यग्धोरं वाराहमिहिरो रुचिरांचकार।।

काम्पिल्य में सूर्य से वर प्राप्त करके अपने पिता से ज्योतिष शास्त्र की शिक्षा ली। उनके ग्रंथ वृहज्जातक, लघुजातक, विवाह पटल, योग यात्रा, समास संहिता कहे जाते हैं। वाराह मिहिर भारतीय ज्योतिष के निर्माता माने जाते हैं। पाश्चात्य विद्धानों का कथन है कि वाराहमिहिर ने भारत की ज्योतिष को केवल ग्रह नक्षत्र तक ही सीमित नहीं रखा वरन् मानव जीवन के साथ विभिन्न पहलुओं द्वारा व्यापकता बतायी तथा जीवन के आलोच्य विषयों की व्याख्यायें की।[६] जैन मंदिर में अनेक अतिप्राचीन पांडुलिपियाँ शोधार्थियों की बाट जोह रहीं हैं। पुरातन खंडहर के रूप में एक संग्रहालय भी है जहाँ अनेक शिलालेख जैन मूर्तियों और प्राचीन ग्रंथ हैं, लेकिन इसकी व्यवस्थित सूची भी नहीं है। काम्पिल का वर्णन उत्तर पुराण, (पर्व—५९) तथा हरिवंश पुराण, (सर्ग—६०) में मनोरम ढँग से मिलता है। हरिवंश पुराण में द्रुपद को मारुंदी नामक नगर का शासक लिखा है। इससे प्रतीत होता है कि संभवत: किसी काल में इसका नाम माकन्दी भी प्रसिद्ध रहा हो।

प्राप्ता मार्गवशद्धिश्वे माकंदी नगरी दिब:।
प्रतिष्छंदा स्थिति दिव्या दधाना देववि भ्रया:।।१२०।।
द्रपदोउस्थास्तदा भूप स्तस्थ भोगवती प्रिया।
धृष्ट द्युम्नादय: पुत्रा प्रत्येक दृष्तशक्तया:।।१२१।।

महाभारत आदिपर्व (सर्ग १२८/३) में काम्पिल्य तथा मांकदी दो शब्द देखने को मिलते है:—

माकंदी अथ गंगायास्तीरे जनपद युतं।
सोध्यावसद दीन मना: काम्पिन्ल्यच्च पुरोत्तमम्।।

भीमदेव बदोला ने चालुकवंश प्रदीप में लिख है कि अंबुदगिरि के महायज्ञ से उत्पन्न सोलंकी वंश के मूल पुरुष माण्डत्य हारीत ने सोरों (एटा) में आकर महान तपस्या की। यहाँ पर काम्पिल्य के राजा शशिशेखर से उनका परिचय हुआ। शशिशेखर ने हारीत आतिवंश का श्रेष्ठ क्षत्रिय जानकर अपने साथ काम्पिल्य ले जाकर अपनी कन्या वारमति का उनके साथ विवाह संस्कार कर दिया। शशिशेखर के कोइ अन्य संतान नहीं थी अत: कुछ काल पश् चात् हारित को ही राज्य दे दिया। हारीत के बैन नाम चक्रवर्ती तेजस्वी पुत्र हुआ जिसने अंग, कलिंग, बंग मगध, पाटिल, कन्नोज अवध, प्रयाग, उड़ीसा तथा इन्द्रप्रस्थ को भी विजय किया। बैन ने अतिरंजीपुर नामक नगर भी स्थापित किया। उपर्युक्त गंथ के आधार पर सोलंकी वंश का मूल स्थान सूकर क्षेत्र (सोरों प्रतीत होता है। सौभाग्य विजय जी कृत ‘‘तीर्थ माला’’ (हस्तलिखित स्व. अगरचंद नाहटा संग्रहालय, बीकानेर) में काम्पिल्य का वर्णन है तथा पटियाली के पास इसे बताया है पटियाली एटा में ऐतिहासिक स्थान है।

‘‘जिहां अयोध्या थी पश्चिमदिशिं, जहां काम्पिल्लपुर छैढाय।
जिहाँ विमल जन्म भूमि जाणओ, जिहां पीटमारी वही जाय।।

जिहां व्रेह्यदत्त चक्री इसां, जिहां चुलणी ना चारित होय।
जिहां केसर वन मृग क्रीड़तो, जिहां संजय राजा जोय।।

जिहां गर्दमिल्ल गुरु व संती जिहां गंगा तट व्रतसार।
जिहां उत्तराध्याय ने जाण जो जिहां द्रुपदी पीहर वासा।।

 

उपर्युक्त प्रमाणों, संदर्भों से स्पष्ट है कि काम्पिल्य (वत्र्तमान कम्पिल) ऐतिहासिक एवं पुरातत्व की दृष्टि से कन्नोज, अहिच्छपुर, हस्तिनापुर नगरों से किसी भी प्रकार न्यून नहीं है। आज आवश्यकता है काम्पिल्य के पुरातत्व में गहरे जाने की, तथा शोधकणों का मंथन करके अमृततत्व को सामने लाने की।

साभार –  इन्साइक्लोपीडिया ऑफ जैनिज्म में प्रकाशित आलेख

सन्दर्भ –

  1.  Studies in the Geography of Ancient $ Medieval India, P-12
  2. महाभारत—आदिपर्व, अध्याय १४, पृ.८१—८२, गीता प्रेस, गोरखपुर
  3.  माध्यन्दिन संहिता, २३/१८
  4. शतपथ ब्राह्मण, १३/५/४—७
  5.  A commentary on the satastra I/II Taisho Tr-Vol 42, P/244 By Prof. Hozime Nakamura, Tokyo-Japan
  6.  भारतीय ज्योतिष, डॉ. नेमीचंद जैन, शास्त्री, पृ. १२६, भारतीय ज्ञानपीठ दिल्ली

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen + 14 =