स्वतन्त्रता सँग्राम में अतुलनीय है आजाद हिन्द फौज का योगदान

आज़ाद हिन्द फ़ौज या ‘इंडियन नेशनल आर्मी’ का गठन 1942 ई. में किया गया था। इसका उद्देश्य भारत को स्वतंत्र

Spread the love
Read more

साढ़े चार लाख रु. में नीलाम हुआ चरखे की अहमियत बताने वाला गाँधीजी का पत्र 

बोस्टन : महात्मा गांधी का लिखा पत्र अमेरिका में 6 हजार 358 डॉलर (करीब 4 लाख 59 हजार रुपए) में

Spread the love
Read more

136 साल पहले उदयपुर में लिखा गया था आधुनिक हिन्दी का पहला ग्रंथ ‘सत्यार्थ प्रकाश’

उदयपुर : आधुनिक हिंदी के मानक गद्य की सबसे पहली पुस्तक उदयपुर में 136 साल पहले वर्ष 1882 में लिखी

Spread the love
Read more

भारतवर्षोन्नति कैसे हो सकती है

“तुम्हें गैरों से कब फुरसत, हम अपने गम से कब खाली। चलो बस हो चुका मिलना न हम खाली न

Spread the love
Read more

सर्वपल्ली राधाकृष्णन…जानिए कुछ खास बातें

1 दक्षिण भारत के तिरूतनी नाम के एक गांव में 1888 को प्रकांड विद्वान और दार्शनिक डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म हुआ था।

Spread the love
Read more

शिक्षक दिवस पर जानिए कुछ खास बातें

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन को 1962 से शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने अपने छात्रों से

Spread the love
Read more

आजादी की लड़ाई में औरतों ने भी खूब दीं कुर्बानियाँ

आजादी के आंदोलन में हिंदुस्तान की महिलाओं का अविस्मरणीय योगदान रहा है। तमाम वीर स्त्रियों ने पुरुषों के कंधे से

Spread the love
Read more

माई लार्ड 

माई लार्ड! लड़कपन में इस बूढ़े भंगड़ को बुलबुल का बड़ा चाव था। गांव में कितने ही शौकीन बुलबुलबाज थे।

Spread the love
Read more

आजादी पर प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने यह कहा था

15 अगस्त 1947 की आधी रात को जब दुनिया के कई हिस्सों में लोग नींद में डूबे हूए थे, उस

Spread the love
Read more