पाठकों और रंगकर्मियों के लिए दस्तावेज़ ‘कला वसुधा’

जीतेन्द्र सिंह  पिछले दिनों लखनऊ से निकलने  वाली प्रदर्शनकारी कलाओं की त्रैमासिक पत्रिका कला वसुधा के पाँच अंक पढ़े ।

Spread the love
Read more

स्त्रियों की अन्तर्कथा : ‘अंतराल’

पूजा की छुट्टी से ठीक एक दिन पहले लेखिका द्वारा भेंट स्वरूप प्राप्त इस पुस्तक के शीर्षक ने मुझे सबसे

Spread the love
Read more

लीक से हटकर भी फिल्में बननी चाहिए

जनवरी का महीना हो। रविवार हो। दोपहर का समय हो और आपको फिल्म देखने की इच्छा हो जाये। और उसके

Spread the love
Read more

110 साल पुराने पेड़ पर बनाई अनोखी लाइब्रेरी

अगर आप किताबें पढ़ने के शौकीन हैं तो आपके लिए यह रोमांचक खबर हो सकती है। एक शख्स ने लगभग

Spread the love
Read more

रख्माबाई : स्त्री अधिकार और कानून

वरिष्ठ इतिहासकार सुधीर चन्द्र की पुस्तक ‘‘रख्माबाई स्त्री अधिकार और कानून’’ गुलाम भारत के समय की एक ऐतिहासिक घटना का

Spread the love
Read more

युगन्धर – ईश्वर और मनुष्य के बीच संतुलन साधने की कोशिश 

अपने चरित नायकों को हम उस पूज्य दृष्टि से देखते हैं कि उनके आस – पास चमत्कार की कथायें गढ़

Spread the love
Read more

हो सकता है दो आदमी दो कुर्सियां” की समीक्षा

प्रशनिकी सम्प्रति महानगर कोलकाता की रंग संस्था पदातिक और रिक के संयुक्त तत्वाधान में प्रस्तुत नाटक ‘हो सकता है दो

Spread the love
Read more

रंगारंग रहा लिटरेरिया 2018, प्रेम मोदी को निनाद सम्मान और विनय वर्मा को रवि दवे सम्मान

कोलकाता : नीलाम्बर कोलकाता द्वारा आयोजित लिटरेरिया का समापन साहित्य, संस्कृति और कला के तमाम रंगों को बिखेरते हुए हुआ।

Spread the love
Read more

17 से आरम्भ होने जा रहा है नाटकों का जश्न

लिटिल थेस्पियन का 8वां राष्ट्रीय नाट्य उत्सव जश्न-ए-रंग उन्हीं भावों और संवेदनाओं का रोचक प्रदर्शन है। यह 17 से 22

Spread the love
Read more

सबसे प्राचीन है भारतीय संगीत का इतिहास

भारत कई कलाओं की जन्मभूमि रहा है मगर नयी सोच हर चीज को पश्चिम से आयातित बताने में विश्वास रखती

Spread the love
Read more