सफलता उसी के कदमों को चूमती है जो समाज को स्वस्थ और सुन्दर बनाते हैं

संगीत और साहित्य का संगम बहुत कम देखने को मिलता है और ऐसा ही संगम हैं वसुन्धरा मिश्र। संगीत की

Spread the love
Read more

हम लिखते, पढ़ते व बोलते तो रहें, कभी तो फिजां बदलेगी

बेहद विन्रम और स्नेहिल स्वभाव की अनामिका जी का लेखन बेहद मजबूत है। वे स्त्रियों की हर पीड़ा न सिर्फ

Spread the love
Read more

यदि दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो कठिनाई को भी जीता जा सकता है

सादगी में भी सौन्दर्य है और सुर में अगर सादगी हो तो आवाज सीधे ईश्वर तक ले जाती है। इस

Spread the love
Read more

बोलने के लिए सही वक्त का इन्तजार करते हुए देर भी हो जाती है

मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल का समाज से रिश्ता होता है मगर क्या एक बेहद सुविधाजनक जिंदगी बिताने की जगह अपने अनुभव

Spread the love
Read more

स्त्रियाँ अगर दूसरी स्त्रियों को सम्मान नहीं देंगी तो उनको सम्मान कैसे मिलेगा

वरिष्ठ लेखिका प्रभा खेतान के विशाल व्यक्तित्व से अलग उनकी बड़ी बहन डॉ.  गीता गुप्ता खेतान ने भी संघर्ष करके

Spread the love
Read more

शिक्षा में अनुशासन आवश्यक, शिक्षा सभी के लिए आवश्यक है: निवेदिता भिड़े

निवेदिता भिडे समाजसेवा के क्षेत्र में एक नाम है जिन्होंने अपना पूरा जीवन समाज के लिए अर्पित कर दिया। जब

Spread the love
Read more