एड्स : बंगाल के अस्पतालों में ही चतुर्थ श्रेणी कर्मी व नर्सों की उपेक्षा सह रहे हैं मरीज

हर साल की तरह इस साल भी गत 1 दिसम्बर को सारी दुनिया में एड्स दिवस मनाया गया।  एड्स पीड़ितों

Spread the love
Read more

31 मंत्रालय, 584 योजनाएं, इस साल 96 हजार करोड़ खर्च; कितना फायदा- पता ही नहीं

अमित कुमार निरंजन नयी दिल्ली : 1950 में संविधान संशोधन कर पहली बार एससी/एसटी आरक्षण को मान्यता दी गई। 2017-18

Spread the love
Read more

‘और आपने दो गज जमीं तक न छोड़ी इन्कलाबी शायर के लिए’

सुषमा त्रिपाठी एक शायर जिसने हिन्दी में गजल को आवाज दी, एक शख्सियत जो इन्कलाब की आवाज बनी, एक कवि

Spread the love
Read more

फाइलों में आज भी जिंदा है राम पथ विकास योजना

भोपाल :  कभी प्रदेश की भाजपा सरकार की सबसे महत्वाकांक्षी योजनाओं में शामिल रही राम वन गमन पथ विकास योजना

Spread the love
Read more

इन कोशिशों से आगे और आगे बढ़ रही है हिन्दी

सुषमा त्रिपाठी हिन्दी का मतलब सिर्फ हिन्दी साहित्य ही नहीं बल्कि हिन्दी साहित्य के साथ और आगे देखना है। जीवन

Spread the love
Read more

संवेदनहीन राजनीति की जद में बच्चे और शेल्टर होम्स

सुषमा त्रिपाठी हमारे देश की सबसे बड़ी समस्या यह है कि समस्या को कांड में तब्दील कर राजनीतिक हथियार बना

Spread the love
Read more

बहिष्कार, ब्लेम गेम, धर्म और राजनीति में पीछे धकेल दी गयी औरत…दफन हो गये बच्चे

सुषमा कनुप्रिया महीने बीत गये…साल गुजर गये….सदियाँ गुजर गयीं…वक्त बदला मगर नहीं बदला तो औरतों को देखने का नजरिया। मैं

Spread the love
Read more

स्त्री पुरुष के संबंधों को लोकतांत्रिक बनाने की जरूरत है

 प्रो. जगदीश्वर चतुर्वेदी सन् 2000 में स्त्री पर पहली पुस्तक लिखी थी। अगर स्त्री साहित्य और संबंधित पुस्तकों पर बात

Spread the love
Read more