प्रदूषण कम हो तो 87 फीसदी गाड़ी मालिक इलेक्ट्रिक वाहन के लिए तैयार : सर्वे

नयी दिल्ली : देश में वायु प्रदूषण को कम करने के लिए इलेक्ट्रिक गाड़ियों के प्रयोग पर जोर दिया जा रहा है। नए सर्वे में यह बात सामने आई है कि 87% भारतीय ड्राइवर और गाड़ी के मालिक इलेक्ट्रिक गाड़ियां खरीदने को तैयार हैं, अगर ये गाड़ि‍यां वायु प्रदूषण को कम करें।

2,000 लोगों पर किया गया सर्वे
जलवायु के लिए काम करने वाली बेंगलुरू स्थित गैर लाभकारी संस्‍था द्वारा किए गए सर्वे में 2,000 से ज्यादा भारतीय ड्राइवर, मालिक और कार खरीदने की योजना बनाने वाले लोगों ने मतदान किया। इसके मुताबिक केवल 12% ड्राइवर और गाड़ी के मालिक पेट्रोल और डीजल का उपयोग करने के लिए इलेक्ट्रिक गाड़ियों की ओर स्विच करेंगे। 2017 में भारत ने 900,000 इलेक्ट्रिक गाड़ियां बेची।
गाड़ियों से हो रहा वायु प्रदूषण
2018 की विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (डब्‍लूएचओ) की रिपोर्ट के अनुसार भारत के लगभग 11% गाड़ियां कार्बन उत्सर्जक हैं। देश भर के कई शहरों में वायु प्रदूषण के प्रमुख स्रोत हैं। दुनिया के शीर्ष 20 सबसे प्रदूषित शहरों में से 14 भारत में हैं। केंद्र सरकार के थिंक टैंक, नीति आयोग द्वारा आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन की शुरुआत से एक दिन पहले जलवायु रुझान के सर्वेक्षण के निष्कर्ष 6 सितंबर, 2018 को लॉन्च किए गए थे।
इसके लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारतीय इलेक्ट्रिक वाहन उद्योग के लिए ‘तेजी से स्‍वीकार करने और हाइब्रिड और इलेक्ट्रिक वाहनों का विनिर्माण'(FAME-2) पर बहु अनुमानित नीति को लांच करने की उम्मीद थी। इससे पहले FAME-1 को 2015 में जारी किया गया था। हालांकि, 7 सितंबर, 2018 को प्रधानमंत्री मोदी ने पॉलिसी में एक बड़ा बदलाव के ‘संकेत’ के बाद नीति को फिर से शुरू करने के लिए स्थगित कर दिया था।
सरकार का इलेक्ट्रिक वाहनों पर जोर
रिपोर्ट के अनुसार योजना के अंतर्गत सब्सिडी देकर वाहन की कीमत को कम करने के अपने पहले के फोकस से हटकर वाहनों में बैटरी की कीमत को कम करने पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। एक रिपोर्ट के अनुसार, इलेक्ट्रिक गाड़ियों के निर्माता और विक्रेता एक ऐसी पॉलिसी का इंतजार कर रहे हैं जिसमें चार्जिंग स्टेशनों, विनिर्माण और खरीदने के लिए प्रोत्साहन सहित इलेक्ट्रिक गाड़ी के लिए इको सिस्‍टम बनाने के लिए एक रोडमैप बनाया जाए। ज्‍यादातर ड्राइवर और गाड़ी मालिक घटिया वायु की गुणवत्‍ता से प्रभावित हैं।
वायु प्रदूषण से सभी पीड़ित
सर्वे के अनुसार, 76% ड्राइवर और मालिक खुद, उनके दोस्‍त और पड़ोसी घटिया वायु गुणवत्‍ता से पीड़ित हैं।उत्तर देने वालों में सबसे ज्‍यादा वायु प्रदूषण से पीड़ित दिल्ली से थे। सर्वेक्षण में लगभग 91% ने कहा कि या तो उनका स्वास्थ्य या परिवार या पड़ोस में किसी के वायु प्रदूषण से प्रभावित है। इसी प्रकार, सर्वेक्षण के मुताबिक हैदराबाद (78%), चेन्नई (75%), मुंबई (74%), बेंगलुरू (71%), और कोलकाता (70%) में उच्च प्रतिशत दर्ज किए गए। सर्वे के अनुसार, खराब हवा की गुणवत्ता से बीमार होने में सबसे आम लक्षण सांस की तकलीफ, सांस लेने में परेशानी (55%), सिरदर्द (51%) और खांसी (51%) थीं। ये लक्षण दिल्ली और शहरी इलाकों में अधिक आम है। 18 से 24 वर्ष के बच्चों और ग्रामीण इलाकों में कम आम है।

चार्जिंग स्टेशनों की कमी सबसे बड़ा रोड़ा
60% उत्तर देने वालों के अनुसार, घरों के पास चार्जिंग स्टेशनों की कमी को इलेक्ट्रिक गाड़ी को खरीदने के लिए सबसे बड़ा रोड़ा के रूप में देखा गया। इसके बाद 46% ने अपर्याप्त ड्राइविंग को इसकी कमी के रूप में पहचाना गया। 31% के अनुसार इलेक्ट्रिक गाड़ियां रिचार्ज करने में लंबा समय लेती हैं। 26% के अनुसार इलेक्ट्रिक गाड़ियों में पेट्रोल या डीजल वाहन के समान सुविधाओं और शैलियों के साथ उपलब्ध नहीं हैं। 25% के अनुसार इलेक्ट्रिक गाड़ि‍यां जो रेंज प्रदान करते हैं, उनके लिए बहुत महंगा हैं, इसमें प्रमुख आपत्तियां थीं।
दोपहिया वाहनों का बढ़ता बाजार
इलेक्ट्रिक गाड़ियों में दोपहिया वाहन भारत में बढ़त हैं। सर्वे के अनुसार भारत ऑटोमोबाइल के लिए दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा बाजार है, जिसमें 2017 में लगभग 25 मिलियन आंतरिक दहन (आईसी) इंजन बेचे गए थे। किसी भी अन्य देश की तुलना में 80% से अधिक या उनमें से लगभग 20 मिलियन दोपहिया वाहन थे।
इलेक्ट्रिक गाड़ी के निर्माता सोसाइटी ऑफ मैन्‍युफैक्‍चर्स ऑफ इलेक्ट्रिक व्हिकल (एसएमईवी) के अनुसार, भारत ने 2017 में बेचे जाने वाले आईसी इंजन वाहनों में से एक लाख से भी कम बिजली से चलने वाले वाहनों को बेचा। इनमें से 93% से अधिक इलेक्ट्रिक तीन-पहिया वाहन और 6% दोपहिया वाहन थे। इलेक्ट्रिक गाड़ियों में दोपहिया वाहन ही अग्रणी है, न कि कार या बस।

विदेशियों का भी दोपहिया वाहनों पर जोर
कैलिफोर्निया स्थित वाहन मूल्यांकन और ऑटो रिसर्च फर्म में सीनियर डायरेक्टर और कार्यकारी विश्लेषक रेबेका लिंडलैंड ने बताया कि हम भारत में चार पहिया वाहनों के माध्यम से सामंजस्‍य स्‍थापित करने के बजाय इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन मे अपना विकास देखेंगे। हालांकि, दोपहिया निर्माता सरकार के इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों पर ध्यान से निराश थे। एफएएम-2 पॉलिसी के मसौदे से पता चलता है कि इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए पूर्व फैक्ट्री मूल्य पर 20% सब्सिडी दी गई है।

(साभार – दैनिक जागरण)

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × two =