हिमा दास : धान के खेतों से निकली भारत की नई ‘उड़नपरी’

नयी दिल्ली :  भारत की 18 वर्षीय हिमा दास ने फिनलैंड में आयोजित विश्व अंडर-20 चैंपियनशिप में 400 मीटर स्‍पर्धा में स्‍वर्ण पदक जीतकर खलभली मचा दी है। वह एकमात्र भारतीय हैं जिसने इस प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता है। यानी आज तक किसी भी भारतीय ने यह कारनामा नहीं किया। हिमा ने 400 मीटर की रेस 51.46 सेकेंड्स में पूरी की। रेस में विजय हासिल करने के बाद हिमा ने अपने पिता से फोन पर बात की और कहा, ‘जब आप सब सो रहे थे, तब मैंने दुनिया में अपना झंडा बुलंद कर दिया।’

हिमा असम की रहने वाली हैं और उनके पिता एक किसान हैं। उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए कहा, ‘मैंने उससे कहा कि हम सभी टीवी पर उसे दौड़ते हुए देखने के लिए जगे हुए थे, इतना सुनने के बाद वह रो पड़ी।’ एक विश्वस्तरीय धावक होने के साथ ही हिमा सामाजिक मुद्दों पर भी मुखर होकर अपनी राय रखती रही हैं और उसके लिए काम भी किया है। उन्होंने अपने गांव और पास पड़ोस ने शराबबंदी करने के लिए काफी काम किया है। हिमा के एक पड़ोसी ने कहा, ‘वह गलत चीजों पर बोलने से कभी नहीं डरती। वह हम सबके लिए एक रोल मॉडल है।’ हिमा को उनके गांव वाले ‘धींग एक्सप्रेस’ बुलाते हैं।

ईएसपीएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक मार्च में निपोन दास ने इसी साल मार्च में इंटरव्यू में कहा था कि उन्हें खुशी होती अगर वे हिमा को तीनों वक्त की खुराक दे पाते। दरअसल हिमा के पिता पास इतने पैसे नहीं थे कि वे उसे अच्छी ट्रेनिंग दिलवा सकें। एक स्थानीय डॉक्टर प्रतुल शर्मा ने हिमा के रहने का इंतजाम किया। अपने पांच भाईयों-बहनों में सबसे छोटी हिमा ने अपने एथलेक्टिस करियर की शुरुआत 100 मीटर और 200 मीटर स्प्रिंटर रेस से की थी। लेकिन बाद में उन्होंने वरिष्ठ कोच की सलाह पर 400 मीटर की प्रैक्टिस शुरू कर दी।

हिमा के 52 वर्षीय पिता का मानना है कि हिमा हमेशा से उनकी प्रेरणास्रोत रही है। उन्होंने कहा, ‘वह पत्थर की तरह दृढ़ है। यहां तक कि जब हम उसे गांव से स्टेशन ट्रेन पर बिठाने गए थे तो उसने हमें कहा था कि चिंता नहीं करनी और वह सब संभाल लेगी। मैं उसका साहस देखकर काफी प्रेरित हुआ।’ हिमा दास की सफलता पर पूरे देशवासी उत्साहित हैं और उन्हें हर तरफ से बधाईयां मिल रही हैं। प्रधानमंत्री ने भी उन्हें इस सफलता के लिए शुभकामनाएं दी हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen + six =